Sunday, November 20, 2011

छुट्टी का एक भयंकर दिन

//व्‍यंग्‍य-प्रमोद ताम्बट//
            कल रात तो भयंकर नींद आई। अल्लसुबह उठे तो देखा अभी भयंकर अंधेरा है, घूमने निकलना भयंकर झंझट का काम है। आजकल शहर भर में आवारा कुत्ते भयंकर तादात में हो गए हैं, भयंकर काटने को दौड़ते हैं। मैं तो चद्दर ओढ़कर फिर भयंकर नींद में गाफिल हो गया।
            फिर जब उठा तो सूरज भयंकर सर के ऊपर आ चुका था। घरवाली ने भयंकर चिल्लाचोट शुरु कर दी। हाथ-मुँह धोने बाथरूम गया तो देखा कि आज फिर पानी भयंकर गंदा आया है। मुंसीपाल्टी पर भयंकर गुस्सा आया, सुबह-सुबह भयंकर गालियाँ मुँह से निकल पड़ीं। मुँह धोया, चाय पीने बैठा। चाय भयंकर कड़वी थी। घरवाली से थोड़ा दूध डालने का निवेदन किया तो वह फिर भयंकर चिल्लाने लगी कि दूध भयंकर महँगा हो गया है, पानी डाल लो।
            अखबार पढने बैठा, भयंकर विज्ञापनों से भरा हुआ था। भयंकर भ्रष्टाचार, चोरी-चकारी, भयंकर कत्ल, भयंकर राजनैतिक उठापठक से पूरा अखबार भयंकर पटा पड़ा था। कई जगह भयंकर बाढ़ आई थी, कहीं-कहीं भयंकर सूखा पड़ा था। पेट्रोल-डीज़ल के दामों में भयंकर बढ़ोत्तरी हो गई थी। सब्ज़ियाँ दाल-दलहनों के दाम भयंकर आसमान पर चढ़ गए थे। इस देश की हालत भयंकर खराब हो गई है। गरीबों का जीना भयंकर मुश्किल हो गया है।
            टेलीफोन की घंटी भयंकर बजने लगी। फोन उठाकर सुना देखा तो एक भयंकर चिपकू मित्र थे। पैसों के लिए भयंकर परेशान थे। पहले ही उन पर हमारी भयंकर उधारी बाकी थी, चुकाने के नाम पर भयंकर रोने लगते थे। अब फिर भयंकर रोने लगे कि अम्मा-बाउजी भयंकर बीमार हैं, पैसों की भयंकर ज़रूरत है। हमने कहा हम भी भयंकर तंगी में हैं। वे भयंकर दोस्ती का वास्ता देने लगे। भयंकर मनाने के बाद भी जब हम नहीं माने तो भयंकर गुस्से में टेलीफोन पर ही भयंकर गालियाँ देने लगे। उधारी के मामले में हम भी भयंकर बेशर्म हैं, सुनते रहे, सुनते रहे। वे भयंकर रुआसे होकर फिर पैसे माँगने लगे। पुराने नौटंकीबाज़ हैं, नाटक भयंकर करना जानते हैं, हम भी उन्हें भयंकर पहचानते हैं। आखिर भयंकर बिल बढ़ाकर उन्होंने टेलीफोन काट दिया और हमने भी भयंकर चैन की साँस ली।
            सिर भयंकर दुखने लगा था, लगता है बी.पी. भयंकर बढ़ गया है। तुरंत गोली खाई, भयंकर आराम हो गया। ग्लूकोमीटर से शुगर चेक की भयंकर नार्मल निकली। कभी-कभी भयंकर बढ़ जाती है। डाँक्टर ने भयंकर दवाएँ लिख रखी हैं, आराम तो भयंकर रहता है परन्तु दवा-दारू आजकल भयंकर महँगी हो गई है।
           आज छुट्टी का दिन है। छुट्टी का दिन बड़ा भयंकर होता है। भयंकर यार-दोस्त आते हैं। कुछ तो भयंकर प्राण खाते है और कुछ भयंकर नाश्ता खाते हैं। दिनभर भयंकर चाय चलती रहती है। भयंकर गप्प-सड़ाके चलते हैं। दिन भयंकर व्यस्तता में गुज़रता है। शाम होते-होते तक भयंकर थकान हो जाती है। भयंकर नींद आती है। थोड़ी झपकी ले लो तो भयंकर फ्रेशनेस हो जाती है। आज की छुट्टी मगर भयंकर बरबाद हो गई। भयंकर लोग आने वाले थे मगर कोई नहीं आया। भयंकर बोरियत हो गई। टी.वी. खोलकर बैठे तो और भयंकर बोरियत होने लगी। समाचार चैनलों पर भयंकर आतंक का वातावरण खींचा जा रहा था। फिल्मी चैनलों पर भयंकर रद्दी फिल्में चल रही थी। भयंकर टॉक शो चल रहे थे, भयंकर वाकयुद्ध हो रहे थे, लग रहा था भयंकर झोंटा-झोंटी ना हो जाए।
            भंयकर बोर होकर एक भयंकर रद्दी मैगज़ीन उठा ली, उसमें बंदे का एक भयंकर व्यंग्य छपा था, मगर सम्पादक ने उसमें भयंकर काटछाँट कर दी थी। भयंकर दिमाग खराब हुआ।
           फिर भयंकर रात हो गई, नींद ने भयंकर रूप से घेर लिया। बिस्तर में घुस गए और भयंकर खुर्राटे भरने लगे। इस तरह एक भयंकर दिन समाप्त हुआ।

8 comments:

  1. kya bhayankar likhte hain aap...
    bhayankar chhuttiwale din ki bhayankar subah se bhayankar raat tak ka itna bhayankar vivran...
    bhayankr ke ghazab hain aap... :)

    ReplyDelete
  2. इतना हाहाकार देखना था तो सोये ही रहते।

    ReplyDelete
  3. 80 बार भयंकर मज़ा आया ... !!!

    ReplyDelete
  4. गुरुवर मैं तो अभी नया हूँ पर भयंकर मजा आया...

    ReplyDelete
  5. HAPPY MOTHER’S DAY !

    आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 13/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. वाह, क्या भयंकर व्यंग्य है. इसे तो भयंकर बार पढ़ना पड़ेगा और भयंकर लोगों के बीच फारवर्ड मारना पड़ेगा.... :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. भयंकर शुक्रिया रवि जी।

      Delete